त्वचा (चमड़ी) की देखभाल

By Vikaspedia on 28 Oct 2017 | read
    032

introduction

Skin is an important part of the body. There are so many things to do. There will be two folds of skin in the body. Sweat is formed in the lower part, this is the blood vessels of blood. After the layer below, there is a layer of fat. All layers They get intense sunlight, diseases enter the germs inside the body and the sick

Avoiding Skin Problems

Burning in the skin, swelling, pain, pim or pus, or when it gets hot

  • Bake hot water
  • Shake it off
  • Some dangerous symptoms
  • Semolina
  • Skinny thin or thick red streak
  • Stomach discomfort

the treatment

  • Mix two tablespoons vinegar in a boiled water and mix it with cloth.
  • You can also use red medicines (potassium permanganate) instead of vinegar

Itching (Kharish)

It is common Small skulls grow on the skin, which are very itchy

It is possible that it can be used in all parts of the body

  • Between fingers
  • On the clients
  • Around the waist
  • Urine - On the Teaching Body

the treatment

Itching occurs only by touching itching. If there is one in the family then the rest can be too early.

  • Add some halmer in the dough, give it water in which neem leaves are boiled. UV is ready
  • Wash the whole body with soap and water thoroughly
  • Rinse the body after wiping
  • Stand in the sunlight for a while
  • तीन दिनों तक इसी तरह उबटन लगाएं और धूप सेंके,घर के चादरों, तकियों के खौल को उबले पानी में धोकर सूखा लें
  • शरीर की सफाई सबसे ज्यादा जरूरी है।

बालों और शरीर के जुएं (ढील)

सिर और बदन के बालों में जुओं से खुजली होती है। जुओं से बचाव के लिए शरीर की सफाई सबसे जरूरी है। चारपाइयों,तकियों और बिस्तरे को रोज धूप दिखाएँ। बच्चों के बालों को नियमित रूप से देखें। अगर किसी बच्चे के बाल में जुआ दिखता है तो उसे दूसरे बच्चों के साथ न सुलाएं।

उपचार

  • सिर में लगाने वाले तेल और किरासन तेल को बराबर हिस्सा लेकर मिलाएं
  • इस घोल का शाम के समय लगाएं, ध्यान रहे कि घोल बालों कि जड़ तक पहुँच जाए
  • घोल लगाने के बाद सिर को कपड़े से ढक दें
  • सुबह के समय बालों को साबुन से धोएँ
  • महीन दांतों वाले कंघी से बाल बनाएँ
  • बाद में कंघी को किरासन तेल में डुबाएं ताकि जिन्दे और मरे हुए ढील निकल जाए
  • सिरका मिले गरम पानी से सर धोने से भी जुओं से छुटकारा मिलता है
  • हर दस दिन पर यही उपचार करें।

पीबवाले छोटे-छोटे घाव

छूत के कारण चमड़ी में पीब भरे छोटे-छोटे घाव निकल आते हैं।गन्दे नाखूनों से खुजलाने से या कीटाणुओं से भी ऐसे घाव निकल आते हैं।

उपचार और बचाव

  • इन घावों को साबुन और उबले पानी से अच्छी तरह धोएँ।
  • धीरे-धीरे घावों पर पड़े पपड़ियों को भी साफ कर दें।
  • दिन में तबतक यह उपचार करें जब तक कि घाव सूख नहीं जाते हैं।
  • छोटे-छोटे घावों को खुला रहने दें।
  • बड़े घावों पर पट्टी बांधे, उन्हें रोज बदल दें।
  • घावों को खुजलाकर छीले नहीं, इससे घाव दूसरे भाग में भी फ़ैल जाते हैं।
  • बच्चों के नाखूनों को काट दें ताकि खुजलाने पर ज्यादा नुकसान न हो
  • यह छुतहा होता है, दूसरे बच्चों को घाव वाले बच्चों को उठने बैठने या सोने न दें।

फोड़े (बड़े घाव)

यह भी छूत से ही होता है। इसमें चमड़ी के नीचे पीब भरी गिल्टियाँ बन जाती है। गन्दे सुई के लगने ऐसे फोड़े जिक्ल आते हैं।  इसमे बहुत ही दर्द होता है। आस-पास कि चमड़ी गरम हो जाती है, लाल भी हो जा सकती है और बुखार भी लग जाता है।

उपचार

  • घाव को दिन में कई बार गरम पानी से सेंके
  • घाव को अपने आप ही फटने दें
  • फटने के बाद भी गरम पानी से सेंक करते रहें
  • बहुत दर्द करने पर डाक्टरी सहायता लें।

खुजली वाले पित्ती

कुछ लोगों को खास चीज छूने , खाने या साँस लेने पर चमड़ी पर खुजली वाले पित्ती निकल आते हैं। पित्ती चमड़ी पर उभरी हुई  चकती होती है।  मधुमक्खी के डंक मारने पर भी ऐसी ही चकती होती है। चकती और आस-पास बहुत ही खुजली होती है, चकती शरीर के दूसरे भाग में निकल आ सकती है।

उपचार

  • ठंडे पानी से नहाए, चकतों पर बर्फ रखें
  • ठंडा दलिया या माड लगाने से भी आराम मिलता है
  • छोटे बच्चों के नाखूनों की काट दें ताकि चकतो को न खुरच सकें

बिच्छू काटने तथा कुछ तरह के पेड़ पौधों को छूने पर भी इसी तरह के चकते निकल आते हैं।

चेहरे और शरीर के सफेद दाग

गरदन, छाती और पीठ पर कभी-कभी गहरे या हल्के रंग के छोटे-छोटे दाग निकल जाते हैं।  यह दाग चमड़ी में खास तरह के फफूंदी के लगने से होता है।  इसमें किसी तरह की खुजली नहीं होती है और किसी तरह के इलाज की भी जरूरत नहीं होती है।

उपचार

दस भाग तेल और एक भाग गंधक सल्फर मिला कर मलहम बना लें उस दागों पर तबतक लगावें जबतक कि दाग गायब नहीं हो जाते हैं। दुबारा न हो इस लिए यह उपचार कुछ महीनों तक हर दस दिनों पर रहें। एक और तरह के छोटे-छोटे सफेद दाग होते हैं।  ऐसे दाग काली चमड़ी वाले बच्चों के गालों पर निकल आते हैं।  ये दाग या निशान छुट के नहीं है।  ऐसे बच्चों को धूप से बचना चाहिए। बड़े होने पर दाग अपने आप मिट जाते हैं।

मुहासें और कीलें

किशोर-किशोरियों के चेहरे, छाती और पीठ पर मुहासे हो जाते हैं। खासकर जब त्वचा बहुत चिकनी होती है। ऐसे मुहासें छुतहा भी हो सकते हैं।

मुहासों को उगलियों से न छुएं न निचोड़े। नाक और चेहरे के मुहासों को तो बिलकुल नहीं।

उपचार :

  • चेहरे को साबुन और गरम पानी से दिन में दो बार धोएँ।
  • धूप से मुहासें ठीक होते हैं, चेहरे, पीठ या छाती को बराबर धूप दिखाएँ।
  • सेहतमंद भोजन खाएं और खूब पानी पिएं।
  • अच्छी तरह सोएं।
  • चिकना तेल या क्रीम न लगाएं।
  • सोने से पहले गंधक और अलकोहल का घोल लगाएं दस भाग अलकोहल, एक भाग गंधक
  • यदि मुहासें ऊपर दिए गए उपचार नहीं खतम होते हैं तो डाक्टर को दिखाएँ।

चमड़ी का कैंसर

गोरी चमड़ी वाले लोगों को धूप में ज्यादा देर घूमने से चमड़ी का कैंसर हो सकता है।  इस तरह का कैंसर खासकर कान, गाल कि हड्डी, कनपटी, नाक तथा होटों पर ज्यादा होता है। चमड़ी का कैंसर कई रूप ले सकता है।  शुरू में यह घेरे कई तरह दिखता है, जो कि मोती के रंग का होता है।  घेरे के बीच में एक छेद होता है। यह धीरे-धीरे बढ़ता है। इसका उपचार डाक्टर आपरेशन के जरिए करता है।  गोरी चमड़ी वाले लोगों को धूप से बचना चाहिए धूप में जाने के पहले जिंक आक्साइड मरहम लगा कर निकलनी चाहिए।

चमड़ी का टी. बी.

जो छोटे कीटाणु फेफड़े के टी. बी. पैदा करते हैं वही कीटाणु चमड़ी पर भी बुरा असर डालते हैं।

चमड़ी की टी. बी. के लक्षण :

  • लम्बे समय तक चमड़ी पर चकता
  • बड़े-बड़े मस्सों का निकलना
  • चमड़ी का घाव जैसा अल्सर
  • चमड़ी गला देने वाला ट्यूमर

TB Slowly starts Lasts a lot of time Skin TB It is difficult to treat the doctor Sometimes TB in the back and neck. Spreads your fingertips

These gauges grow up and it grows and the pub comes out. This happens repeatedly this TB Even medical treatment is necessary in the hospital.

Source: Convention, Xavier Social Services Institute

 

Comments